Sad shayari

Rate this post

tujhse achchhe to jakhm hain mere ।
utni hi takliph dete hain jitni bardaast kar sakun

 

वो तेरे खत तेरी तस्वीर और सूखे फूल,
उदास करती हैं मुझ को निशानियाँ तेरी।

 

Ajeeb Sa Dard Hai In Dinon Yaaro,
Na Bataun To Kaayar, Bataoon To Shayar.

 

ये मेरी महोब्बत और उसकी नफरत का मामला है,
ऐ मेरे नसीब तू बीच में दखल-अंदाज़ी मत कर।

 

Na Jane Kis Baat Pe Wo Naraj Hain Hamse,
Khwabon Me Bhi Milta Hoon To Baat Nahi Karti.

 

सोचता रहा ये रातभर करवट बदल बदल कर,
जानें वो क्यों बदल गया, मुझको इतना बदल कर।

 

Wo Tere Khat Teri Tasvir Aur Sookhe Phool,
Bahut Udaas Karti Hain Mujhko Nishaniyan Teri.

 

इन्ही पत्थरों पे चल कर अगर आ सको तो आओ,
मेरे घर के रास्ते में कोई कहकशाँ नहीं है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.